There was an error in this gadget

Search This Blog

Friday, December 31, 2010

मंगलमय हो नव वर्ष।



सन २०११ आप सभी को सुख-समृद्धि एवं वैभव प्रदान करे। आप सच्चे मन से देश और समाज की सेवा करें।
जयलोक मंगल के साथी परस्परता के भाव से साहित्य को समृद्ध करें।

दया निर्दोषी
Post a Comment