Search This Blog

Wednesday, December 22, 2010

धर्मशाला यात्रा मुबारक हो


आदरणीय नीरवजी
मधु चतुर्वेदी की पोस्ट से जानकारी मिली है कि आप लोग धर्मशाला तशरीफ ले जा रहे हैं। और वहां संभवतः बड़ा दिन मनाएंगे। प्रशांत योगीजी के सुखद आतिथ्य की हम यहीं से अनुभूति कर रहे हैं। आपकी यात्रा सार्थक एवं सुखद हो हमारी शुभकामनाएं...
आपको रेडियो एक्टिव साहित्यकार लेख बड़ा धांसू है। कई लोगों की याद आई इस व्यंग्य को पढ़कर। सचमुच कुछ लोग रेडियो की नैकरी के कारण ही साहित्यकार हो जाते हैं।
डॉक्टर प्रेमलता नीलम
Post a Comment