There was an error in this gadget

Search This Blog

Sunday, January 2, 2011

पं. भाई श्री सुरेश नीरव जी,
आपको नववर्ष-2011 की ढेरों शुभकामनाएं।
इस अवसर पर------

सुप्रसिद्ध कवि सोहनलाल द्विवेदी की निम्न पंक्तियों के साथ लोकमंगल ब्लाग के सभीसदास्यों को
नव वर्ष की कोटि-कोटि शुभकामनाएँ-
स्वागत! जीवन के नवल वर्षआओ, नूतन-निर्माण लिये,
इस महा जागरण के युग मेंजाग्रत जीवन अभिमान लिये;
दीनों दुखियों का त्राण लियेमानवता का कल्याण लिये,
स्वागत! नवयुग के नवल वर्ष!तुम आओ स्वर्ण-विहान लिये।
संसार क्षितिज पर महाक्रान्तिकी ज्वालाओं के गान लिये,
मेरे भारत के लिये नईप्रेरणा नया उत्थान लिये;
मुर्दा शरीर में नये प्राणप्राणों में नव अरमान लिये,
स्वागत!स्वागत! मेरे आगत!तुम आओ स्वर्ण विहान लिये!
युग-युग तक पिसते
को जीवन-दान लिये,कंकाल-मात्र रह गये शेषमजदूरों का नव त्राण लिये;
श्रमिकों का नव संगठन लिये,पददलितों का उत्थान लिये;
स्वागत!स्वागत! मेरे आगत!तुम आओ स्वर्ण विहान लिये!
सत्ताधारी साम्राज्यवाद केमद का चिर-अवसान लिये,
दुर्बल को अभयदान,भूखे को रोटी का सामान लिये;
जीवन में नूतन क्रान्तिक्रान्ति में नये-नये बलिदान लिये,
स्वागत! जीवन के नवल वर्षआओ, तुम स्वर्ण विहान लिये!


प्रदीप शुक्ला
मो.09868110866


Post a Comment