There was an error in this gadget

Search This Blog

Wednesday, January 26, 2011

गूँजती तालियों से हार्दिक स्वागत


जगदीश परमारजी

हे स्वतंत्रता सेनानी! हमार ह्रदय की पुकार।

गूँजती तालियों से आपका करते सत्कार ।

तुमने खायी फिरंगियों से लाठियों की मार।

प्रबल वीर बहादुर तुमने दिया उन्हें निकार

जोश- रोश वाणी तेरी दहका हर घर द्वार ।

क्रान्ति के पथ में जैसे दमके खंग तलवार।

काव्य शिरोमणि हे श्री जगदीश परमार।

काव्यांजलि से भरा भारत मां उदगार।

हम करते हैं तिहारा स्वागत -सत्कार ।

-भगवान सिंह हंस
Post a Comment