Search This Blog

Wednesday, January 19, 2011

भूमिका लिखनी है

आदरणीय नीरवजी 
आपका स्वदेश लौटने पर स्वागत। आपसे संस्मरण सुने जाएंगे। हाल फिलहाल मेरे काव्य संग्रह की आपको भूमिका लिखनी है। प्रकाशक के यहां है औरआपका बेसब्री से इंतजार था। कब मिलूं बताएं।
मुकेश परमार
Post a Comment