Search This Blog

Wednesday, January 26, 2011

माँ के पैर छूकर कबीर ने गाँव छोड़ दिया




अभिषेक मानवजी आपको बहुत-बहुत बधाई इतना बेहतरीन आलेख संजोने के लिए। मैंने रिझकर पढ़ा। बहुत अच्छा लगा और बड़ा आनंद आया कि विद्रूपताओं से तंग आकर एक दिन सूर्य निकलने से पहले माँ के पैर छूकर कबीर ने अपना गाँव छोड़ दिया और परिवर्तन करने चल दिया। जय लोकमंगल।
भगवान सिंह हंस
Post a Comment