There was an error in this gadget

Search This Blog

Saturday, February 12, 2011

भारत माँ की हालत पर, अब राष्ट्र -तिरंगा रॊता है !!

आज तिरंगा रॊता है.......
______________________________
_________
रक्षक ही भक्षक बन कर,जब हाँथ लहू सॆ धॊता है !!
भारत माँ की हालत पर, अब राष्ट्र -तिरंगा रॊता है !!

कॆशर की कॊमल कलियाँ, झुलस रहीं हैं शॊलॊं सॆ,
हिम-गिरि भी काँप रहा है,आतंकवाद कॆ गॊलॊं सॆ,
बातॆं कश्मीर विभाजन की,कहीं नीर विभाजन हॊता है !!१!!
भारत माँ की हालत पर, अब.........................

नाँग अनॆकॊं खादी पहनॆं,कुर्सी ऊपर मटक रहॆ हैं,
भगतसिंह कॆ नारॆ दॆखॊ,सूली ऊपर लटक रहॆ हैं,
प्रजातंत्र कॆ आँगन मॆं ही, जब प्रलय प्रजा पर हॊता है !!२!!
भारत माँ की हालत पर, अब............................
....

गंगा यमुना का पावन जल,दॆखॊ लहू-लुहान हुआ,
उन अमर शहीदॊं का, व्यर्थ यहाँ बलिदान हुआ,
मज़दूर भूख सॆ तड़प रहा, और मंत्री कुर्सी पर सॊता है !!३!!
भारत माँ की हालत पर, अब............................
....

एक दहॆज़ की डॊली, घर दौलत सॆ भर दॆती है,
एक दहॆज़ बिन घुट-घुट,आत्म-दाह कर लॆती है,
सात रंग कॆ स्वप्न सजायॆ, यह कपटी मानव सॊता है !!४!!
भारत माँ की हालत पर, अब............................
....

बसंती चूनर गानॆं वालॊ, गुमनाम यहाँ हॊ जाऒगॆ,
"राज़"अगर फिर आयॆ तॊ,बदनाम यहाँ हॊ जाऒगॆ,
इस कुर्सी की नीलामी मॆं जानॆ, आगॆ क्या-क्या हॊता है !!५!!
भारत माँ की हालत पर, अब............................
....कवि-राजबुंदॆली
Post a Comment