There was an error in this gadget

Search This Blog

Sunday, February 20, 2011

दर्शन देते रहिए,जनाब

मकबूलजी
बेहतरीन गजल के लिए आपको बहुत-बहुत
बधाइयां । जल्दी-जल्दी आप अपने दर्शन देते रहिए।
पालागन।
भगवान सिंह हंस -९०१३४५६९४९
Post a Comment