Search This Blog

Sunday, February 6, 2011

महासंत ईशु

आज ब्लॉग पर महासंत ईशु का आध्यात्मिक आमंत्रण पढ़ा। पढ़कर बरबस ही  ये पंक्तियां मन में उग आईं-
हम उस देश के वासी हैं
जहां डॉग भी प्रवचन करते हैं। 
और सही बात तो ये है कि आज चैनलों पर जिस नस्ल के जीव-जंतु मानव जागरण की सुपारी उठाए हुए हैं उस भीड़ में हमारे ईशु की आध्यात्मिक भौं-भौं ही ज्यादा सार्थक और अर्थवान है। मन ईशु के पंजा स्पर्श के लिए सरकारी हैंडपंप की तरह नतमस्तक हो चुका है। ईशु की जय हो विजय हो..
-                                                                                                                                    -सुरेश नीरव
Post a Comment