There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, March 31, 2011

ब्लॉग की तरक्की पर खुशी


राजमणिजी की मॉरीशस यात्रा
जयलोकमंगल के साथियों के लिए भाई राजमणिजी ने जो दुर्लभ फोटो डाले हैं, उसे देखकर वे लोग उस, लघुभारत का आनंद ले सकते हैं जो मॉरीशस में बसता है।  तय  है कि ये फोटो राजमणिजी के जरिए बिना पासोपोर्ट,वीज़ा और टिकट के लोगों को मॉरीशस घुमाने का एक प्रशंसनीय साधन बन गये है। राजमणिजी को बहुत धन्यवाद.
0000000000000
डॉ.मधु चतुर्वेदी बहुत दिनों बाद जयलोकमंगल देख पाईं हैं और एक अदद क्षणिका के साथ अवतरित हुईं हैं। इस रचनात्मक सहयोग के लिए हम सभी ब्लॉगवासी उनके कृतज्ञ हैं। और भविष्य में भी उनसे ऐसे अप्रतिम सहयोग की अपेक्षा रखते हैं। अगर उन्हें याद न हो तो में याद दिलाना चाहूंगा कि 24 मार्च को गजरौला में एक आयोजन हुआ था। और उसके कुछ फोटो भी खिंचे थे। यदि वह उन्हें ब्लॉग पर डाल सकें तो अच्छी ही रहेगा।
00000000000000000
मकबूलजी ने ब्लॉग की तरक्की पर खुशी जताई है,इसके लिए हमारी उन्हें बधाई है। आज बहुत ही उम्दा ग़ज़ल उन्होंने हम सभी को पढ़वाई है। बहुत अच्छे शेर कहे हैं। वादानोशी के शेर मकबूलजी जब भी कहते हैं, बेहतरीन कहते हैं।
जयलोकमंगल
पंडित सुरेश नीरव
Post a Comment