There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, March 17, 2011

हॊली कॆ रंग,,राधा कॆ संग,,,,

हॊली कॆ रंग,,राधा कॆ संग,,,,
-------------------------------------------
राधा और कृष्ण मे अनबन हो गई है,और राधा जी कुछ षड़यंत्र रच रहीं है,,,
और बस यहीं से प्रसंग शुरू हॊता है,

कृष्ण कह रहे हैं,,,,,
आज हॊरी में, गुलाल भरे झॊरी में, तुम द्वार-द्वार, सखियां बुलाय रही हॊ !
मचले मन मॊर, उठे हिय में हिलोर, अंखियां चकॊरी काहे चुराय रही हॊ !!
कान में बॊल बॊल,मूक-मंत्र घॊल,पंकज कपोल नाग-भरनी भराय रही हॊ !
राधे ढ़िग जाय कहें कान्हा मुस्काय, करतार पै कछु करनी कराय रही हॊ !!१!

मन मे है चॊर,काहे तनी नाक तोर,"राज" कछु आज तू छुपाय रही है !
कमर दॊ घेर, कसे चुनरी गुरेर, नैन नचाइ रही हॊंठ क्यूं चबाय रही है !!
पिचकारी में रंग भरे मन में उमंग, नागफ़नी सी दबंग मुस्काय रही है !
चित्त चढ़ी भंग, नाचे अंग में अनंग, चाल ज्यॊं मतंग कहां जाय रही है !!२!!

अब राधा कह रहीं हैं,,,,,,,,,
चाल तेरी जान गई,तोहे पहचान गई, झूठे बहाना बनाना कान्हा छॊड़ दॆ !
तू है नंदलाला, मैं भी बृज की बाला, बाला-बाला बहलाना कान्हा छॊड़ दॆ !!
हॊरी है जाय ठिठॊली कहीं और कर,जॊरा-जॊरी आजमाना कान्हा छॊड़ दॆ !
छलिया नंदलाल करे काहे रे बबाल,मेरी गली आना जाना कान्हा छॊड़ दॆ !!३!!

अब कृष्ण की ऒर सॆ प्रतिक्रिया हुई,,,,,,,,
कृष्ण कन्हाई धाय पकरी कलाई, घबराई तब हाल बेहाल भये राधा के !
तन इंनकार करे मन इकरार, भूल तकरार के सब ख्याल गये राधा के !!
अँखियां सिकॊर चितचॊर कहे, जॊर-जॊर मलूंगा गुलाल गाल पै राधा के !
हाँथ, हाँथ छुओ गात ने गात जब, बिना गुलाल गाल लाल भये राधा कॆ !!४!!

राधा ने एक शर्त रख दी कृष्ण के सामने,,,,,
रंग डार रंग डार रॊम रॊंम रंग डार, तू जीतॊ कान्हा मैं हारी मान जाऊंगी !
जाना अनजाना भूलके बहाना तेरा, रूप का खजाना सरकारी मान जाऊंगी !!
प्रेम के पुजारी प्रेम की सौगंध है, तू निबाहे तॊ प्रेम- पुजारी मान जाऊंगी !
श्याम रंग छॊड़ दूजे रंग रंग मॊय, रंग-रसिया तेरी रंग-दारी मान जाऊंगी !!५!!

भर पिचकारी श्याम सराररा मारी, अंग-अंग राधे के सरबॊर भये रे !
सिसयानी,खिसयानी,सरमानी राधा, फ़ागुन में मचल मन मोर भये रे !!
कैसा रंग मोरे अंग डारयो छलिया,अंग-अंग शिथिल पोर-पोर भये रे !
मूरत सी ठाढ़ी राधा देखे श्याम कॊ, जैसे नैन राधा के चकोर भये रे !!६!!

बूंद-बूंद धरन पे गिरन लगे ज्यों, मोती गिरें टूट-टूट मणिमाला से !
उभय शिखर मध्य रंगधार यूं बहे, गंग-धार बहती ज्यों हिमाला से !!
गीले बसन में लिपटे नशीले अंग, गीलॊ बदन जरो जात ज्वाला से !
लाज की गाज गिरी राधा पे आज,झट झपट लिपट गई नंदलाला से !!७!!

श्याम वक्ष ज्यों बरगद वृक्ष भयो, राधिका लता बेल सी लिपटाय रही है !
राधिका के बाहुपास फ़से श्याम यूं, ज्यों बाघिन बछड़ा - खिलाय रही है !!
हांफ़ रही कांप रही न कछु भांप रही, उरग श्वांस धम्मन चलाय रही है !
अनुलोम-विलोम भयॊ श्वासो-श्वांस में, एक स्वर पी दूजॊ पिलाय रही है !!८!!
राजा बुंदेली
Post a Comment