There was an error in this gadget

Search This Blog

Saturday, March 26, 2011

एक प्रयोग


ये न पूछिए जनाव , कि दिल-ए-प्यार होता है.
ताबूत में जो हमसफर शव-ए- खार होता है.



दिल की बात दिल से कही,क्या दिल को मिली  कभी.
शब्द के पार मौन कि रवे गुलजार होता है.



कहते सुना है-पत्थर है तू, जो बड़ा कठोर है.
अहल्या का वो आलय, पदे-ए- सार होता है.



जेल में बंद था वो तेरे आने से पहले,
तू आया, खुलीं बेडी, खुला-ए- द्वार होता है.



बहुत बड़ी बात कही क्योंकि वह बड़ा आदमी है,
पूछता हूँ जनाव  क्या शब्द-ए- भार होता है.



कहते हैं लोग जहाँ, उसका दिल तो दरिया है,
अनहद को हद बना कि परखे-ए-जार  होता है.



दिल की गहराई जो माप सका नहीं है कोई,
बस तकदीर में जो बदा हि साकार होता है.

भगवान सिंह हंस

९०१३४५६९४९  




Post a Comment