There was an error in this gadget

Search This Blog

Tuesday, May 3, 2011

कोई घात हो रही होगी

पालागन जनाव मकबूलजी . काफी अरसे के बाद आपकी गजल पढ़ने को ब्लॉग पर मिली, बेहद ख़ुशी हुई. कितनी बेहतरीन गजल है, पढ़कर मज़ा आ गया. आपकी गजल का निम्न शेर बहुत पसंद आया-
जशन उसने मनाया यारी का ,
फिर कोई घात हो रही होगी.

पुनः आपको बधाई. पालागन.




                                                                                                              ९०१३४५६९४९

Post a Comment