There was an error in this gadget

Search This Blog

Tuesday, May 24, 2011

राजीव गांधी स्मृति संध्या एवं राजीव गांधी के सपनों का भारत

सांस्कृतिक समाचार-
प्रगति और परंपरा के प्रतीक थे राजीव गांधी
नई दिल्ली-23 मई राजीव गांधी देश के ऐसे प्रधानमंत्री थे जिन्होंने भारत महोत्सव-जैसे आयोजनों से जहां नई पीढ़ी को देश की संस्कृति से जोड़ा वहीं कंप्यूटर और सूचना प्रौद्योगिकी के जरिए उन्हें प्रगति का नया रास्ता भी सुझाया, ये उदगार प्रवासी संसार पत्रिका द्वारा  आयोजित राजीव गांधी स्मृति संध्या तीनमूर्ति भवन में जगदीश पीयूष की पुस्तक राजीव गांधी के सपनों का भारत का लोकार्पण करते हुए सूचना एवं प्रसारण मंत्री अंबिका सोनी ने कहे। इस अवसर पर संसद सदस्य मणिशंकर अय्यर,राजीव शुक्ला,प्रभा ठाकुर,सत्यव्रत चतुर्वेदी, केन्द्रीय ग्रामीण विकास एवं रोजगार मंत्री हरीश रावत, भू.पू.राज्यपाल सैयद सिब्ते रज़ी और प्रवासी संसार के संपादक राकेश पांडेय और अमेठी-रायबरेली संसदीय क्षेत्र के प्रतिनिधि किशोरी लाल शर्मा के अलावा काग्रेस के महासचिव मोतीलाल बोरा ने भी पुस्तक की उपयोगिता और प्रासंगिकता पर अपने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम के अगले चरण में साहित्य,कला,संस्कृति और पत्रकारिता के क्षेत्र में उल्लेखनीय सेवाओं हेतु कुछ विभूतियों को राजीव स्मृति सम्मान से अलंकृत भी किया गया। जिनमें- सर्वश्री रवीन्द्र कालिया( संपादकः नया ज्ञानोदय), कुमार विकास सक्सेना (चित्रकार),सुरेन्द्र शर्मा(हास्य कवि),पंडित सुरेश नीरव (कवि-पत्रकार), रामचंद्र मिश्र( संगीतकार) के अलावा अहिंदी भाषी कवि माणिक मुंडे उल्लेखनीय हैं। कार्यक्रम का सफल संचालन  हिंदी कवि पंडित सुरेश नीरव ने किया।
Post a Comment