Search This Blog

Tuesday, May 10, 2011

पंक्तियां तो विश्वास और आस्था का मंत्र हैं-

 आदरणीय कर्नल विपिन चतुर्वेदीजी,
बहुत सुंदर गीत लिखा है आपने। ये पंक्तियां तो विश्वास और आस्था का मंत्र हैं-
मेरा मस्तक ऊँचा रहता, केसी भी आफत आई हो
मेरी न विश्व मैं मंजिल है, हर कठिन किनारा पथ मेरा
तूफ़ान भरे है मुझमें ही, तूफानी सागर रथ मेरा

तूफानों की ज्वाला मैं दमकाया है जीवन कुंदन को
ये युगों युगों तक गूंजेगा जो गीत सुनाऊंगा तुमको..
बधाई
पंडित सुरेश नीरव
Post a Comment