Search This Blog

Thursday, September 22, 2011


तू धरा  आकाश मैं ,दिल में अभी तक है गिला 
उम्र गुजरी अंत तक, हमको क्षितिज ही ना मिला 

घनश्याम वशिष्ठ 
Post a Comment