Search This Blog

Saturday, September 3, 2011


भ्रष्टाचार या सरकार का विरोध करने वालों के लिए .......
रहना ज़रा, संभल कर इस बस्ती में 
समझो कि हो, सियारों की सरपरस्ती में

घनश्याम वशिष्ठ 
Post a Comment