Search This Blog

Friday, September 9, 2011


अजीब है कुछ,  हसीनों की फितरत बड़ी 
हमनें जुल्फों को घटा कहा ,वो बरस पड़ीं

घनश्याम वशिष्ठ
Post a Comment