There was an error in this gadget

Search This Blog

Tuesday, September 20, 2011


जिक्र ए हकीक़त कहाँ कहाँ नहीं किया है 
हमनें तुम्हें कब का भुला दिया है


घनश्याम वशिष्ठ
Post a Comment