Search This Blog

Wednesday, November 16, 2011

जनाव मकबूलजी पालागन, आपकी बेहतरीन गजल के लिए आपको बधाई देता हूँ. गजल के निम्न बोल बहुत ही पसंद आए-


बारे- हस्ती उठा सका न कोई
                                                          ये गमे- दिल जहां से भारी है।
                                                        आँख से छुप के दिल में बैठे हो
                                                           हाय कैसी ये पर्दादारी है।

Post a Comment