There was an error in this gadget

Search This Blog

Friday, December 16, 2011

शब्दिका --
----------------
भवरी 
मंत्री के 
bhvrjaal मे
फंसी है ---
गहरे तक धंसी है ---
------------------
२------
------------------
पेट्रोल 
रेट पर 
अपनी बाहें 
शान से 
चढाते हैं ---
कम कर
बढाते हैं ---
-----------------------------
प्रकाश प्रलय कटनी 
-------------------------------
------------------------------
Post a Comment