There was an error in this gadget

Search This Blog

Friday, December 9, 2011

मेरे पर निकलने लगते हैं

बुरे दिनों से बचाना मुझे मेरे मौला
क़रीबी दोस्त भी बचकर निकलने लगते हैं
बुलन्दियों का तसव्वुर भी ख़ूब होता है
कभी कभी तो मेरे पर निकलने लगते हैं
-राहत इन्दौरी
00000000000000000000000000000000000000000000000
Post a Comment