There was an error in this gadget

Search This Blog

Sunday, December 11, 2011

छोटों से मिलकर जीना चाहिए



आदरणीय श्री नीरवजी का बहुत ही सारस्वत एवं अच्छा विचार है, ऐसे सारस्वत विचार आगे भी लिखते रहे ,

पंडितजी के शब्दों में-- 

इक प्याली चाय-जैसी है ज़िंदगी

ज़िंदगी जीना अच्छी चाय बनाने की तरह है। लीजिए जिंदगी के जायके का बेहतरीन लुत्फ।
--                                                                                                                                 ---

हमें भी जिंदगी में यदि कुछ करना है तो अपने अहम को घटाकर छोटों से मिलकर जीना चाहिए। तभी हमें कामयाबी मिल सकती है।

ऐसे विचार आगे भी लिखते रहिए,  आग्रह | मेरे सादर नमन |





 
 
Post a Comment