There was an error in this gadget

Search This Blog

Saturday, August 4, 2012

शब्द महोत्सव

शब्द महोत्सव में अलंकृत होंगे देवमणि पांडेय

गालव ऋषि की तपोभूमि ग्वालियर में सर्वभाषा संस्कृति समन्वय समिति की मध्यप्रदेश इकाई द्वारा आगामी 11-12 अगस्त को आयोजित हो रहे दो दिवसीय शब्द महोत्सव में मुंबई के लब्ध-प्रतिष्ठित कवि एवं ग़ज़लकार देवमणि पांडेय को साहित्य के क्षेत्र में अप्रतिम रचनात्मक सेवाओं के लिए ‘भाषा भारती सम्मान’से अलंकृत किया जाएगा। वरिष्ठ कवि-पत्रकार-संस्थाध्यक्ष सुरेश नीरव ने जानकारी दी कि यह कार्यक्रम ग्वालियर के प्रतिष्ठित सभागार चैंबर ऑफ कामर्स में आयोजित किया गया है।सोमवार 13 अगस्त को शाम 6 बजे भोपाल के दुष्यंत कुमार स्मारक पांडुलिपि संग्रहालय में देवमणि पांडेय अपनी ग़ज़लों का पाठ करेंगे। कार्यक्रम संयोजक श्री राजुलकर राज ने बताया कि इस अवसर पर देवमणि पांडेय के ग़ज़ल संग्रह ‘अपना तो मिले कोई’ के बहाने होने वाली ग़ज़ल चर्चा में शहर के प्रमुख रचनाकार- नर्मदाप्रसाद उपाध्याय, हरि भटनागर, माणिक वर्मा, ज़हीर क़ुरेशी, नुसरत मेंहदी, अनवारे इस्लाम आदि शिरकत करेंगे। ‘खुशबू की लकीरें’ और ‘अपना तो मिले कोई’ जैसे काव्य-संग्रहों से शोहरत हासिल कर चुके देवमणि पांडेय ने अनेक सीरियलों और फिल्मों के लिए भी गीत लेखन किया है। फिल्म ‘पिंजर’ में लिखे इनके ‘गीत चरखा चलाती माँ’ को 2003 में ‘बेस्ट लिरिक ऑफ द इयर’ का पुरस्कार भी मिल चुका है। हाल में ही आप ताशकंद में आयोजित पांचवे अंतरराष्ट्रीय हिंदी सम्मेलन में ‘सृजनश्री’ सम्मान से सम्मानित होकर लौटे हैं।
Post a Comment