Search This Blog

Saturday, August 4, 2012

आपकी अदा धांसू है, निराली है।

धन्य हैं रजनीकांत राजूजी
रजनीकांत राजू
अन्ना हजारे पर आपकी कविता पढ़कर 
मन प्रसन्न हो गया।
लगता है अब हास्य-व्यंग्य कवियों की 
शामत आनेवाली है। 
आपकी अदा धांसू है, निराली है।
-पंडित सुरेश नीरव
Post a Comment