Search This Blog

Thursday, September 13, 2012

राष्ट्रभाषा हिंदी में ही कहा










आदरणीय पंडित सुरेश नीरवजी ने हिंदी पखबाड़े में एन टी पी सी नोयडा में आयोजित कार्यक्रम में हिंदी पर -हिंदी की दिशा और दशा पर करार व्यंग करते  हुए एक नई  पहल की शुरूआत की और  कहा मुंबई से बंगाल , कश्मीर से  कन्याकुमारी तक हमारे क्रांतिकारियों ने हिंदी में ही  अपनी आवाज को -स्वाधीनता हमारा जन्म सिद्ध अधिकार है , दिल्ली चलो जैसे नारों से, बुलंद किया। 1 घंटे तक एक सराहनीय व्यक्तव्य दिया। आज एक नई शुरूआत की जरूरत है। इसके लिए मैं उनको बधाई देता हूँ। मेरे पालागन। 


Post a Comment