Search This Blog

Thursday, October 18, 2012


क्या कहें अलफ़ाज़ ही खफा हो गए 
ज़ेहन में नहीं आते बेवफा हो गए 

घनश्याम वशिष्ठ 
Post a Comment