Search This Blog

Monday, October 29, 2012


जहां  ताला पड़ा रहता है  दिन भर,
कभी कभी सराय सा लगता है घर 

घनश्याम वशिष्ठ 
Post a Comment