Search This Blog

Saturday, October 20, 2012

आनंद से आनंदित हूं।

घनश्याम वशिष्ठजी और प्रकाश प्रलयजी
आप दोनों की रचनाओं के आनंद से आनंदित हूं। आप को अनेक बधाइयां।
-सुरेश नीरव
Post a Comment