There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, March 7, 2013

कभी माँ ,कभी बहन ,कभी पत्नी   ,कभी बेटी -बहु  .
जिस रूप में भी रही , पालनहार रही तू  .

घनश्याम वशिष्ठ
Post a Comment