There was an error in this gadget

Search This Blog

Saturday, February 8, 2014

आम जन की आस से ऊंचा हुआ है आदमी ,
आम रहकर ख़ास से ऊंचा हुआ है आदमी। 
घनश्याम वशिष्ठ
Post a Comment