There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, November 11, 2010

मदमस्त हुआ फिरता पगला



दर्द की भाषा और परिभाषा को कौन समझ पाता है,सिवा कवि के। इसलिए लोग कवि को पागल,दीवाना और न जाने क्या-क्या कहते हैं। मगर कवि को पास जो आनंद होता है वो भला कितने लोगों को नसीब होता है। वो तो एक मदमस्त हुआ पगला होता है.अपनी ही धुन में रमा हुआ...
बोझिल न हुई होती साँसे
गर टीस समझ गए होते
दिल को छोड़ अकेला यूँ
गर तुम सब नहीं गए होते
मदमस्त हुआ फिरता पगला
गर मर्म समझ गए होते
मंजुऋषि को बधाई...
भगवानसिंह हंस
000000000000000000000000000000000000000
Post a Comment