There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, November 11, 2010

मंजुऋषिःअकेलेपन की कविता


आज ब्लाग पर मंजुऋषि की बड़े शहरों में अकेलापन भोगते एक आदमी की व्यथा को कविता में ढालने की कोशिश को देखा। सच है तनहाई में ये अहसास सिर उठाता है कि हम कितने अकेले हैं. जिन्हें हम चाहते हैं वो दूर होते हैं और एक अनचाही भीड़ को झेलना हमारी नियति।
पीढ़ा को बड़े ढंग से बांधा है,मंजु ने-
गर मर्म समझ गए होते
गर टीस समझ गए होते
दिल को छोड़ अकेला यूँ
गर तुम सब नहीं गए होते
मदमस्त हुआ फिरता पगला
गर मर्म समझ गए होते..
पंडित सुरेश नीरवजी हमेशा ही नई प्रतिभाओं को मंच देते हैं। मंजुजी इस मंच का सार्थक उपयोग करें,मेरी यही कामना है।
मुकेश परमार
-------------------------------------------------------------------
Post a Comment