There was an error in this gadget

Search This Blog

Wednesday, December 1, 2010

हम उसे व्यंग्य कहते हैं



Let us put our hands today again at (God's) disposition and pray that he takes our hands to guide us. Let his hand take ours so we won't sink, but will serve life which is stronger than death, and love which is stronger than hatred.
आदरणीय नीरवजी

जो हाथ ई
श्वर के आगे प्रार्थनाओं के लिए झुकते हैं,ईश्वर ने आपके उन्हीं हाथों में कलम थमा दी है। जिनसे आस्थाओं का वह अमृत झरता है, जो हर विसंगति का उपचार है। हम उसे व्यंग्य कहते हैं।
डाक्टर प्रेमलता नीलम
00000000000000000000000000000000000000000000000
Post a Comment