There was an error in this gadget

Search This Blog

Monday, February 14, 2011

जिस देश में नदियों और वृक्षों की पूजा की परंपरा रही हो

आज जिस स्थिति में हमारी नदियां और जंगल हैं उनका दर्द सहना और कहना संवेदनशील कवि का धर्म है। पंडित सुरेश नीरव ने इसे नीरज नैथानी की भूमिका में बखूबी कहा है। मैं श्रीनगर में नीरज नैथानी को सुन चुका हूं। अच्छे कवि हैं। उनके संकलन हेतु बधाईनीरवजी की इन पंक्तियों पर गौर किया जाना चाहिए-
जिस देश में नदियों और वृक्षों की पूजा की परंपरा रही हो, अपने अमृत तुल्य जल से सभी की प्यास बुझाती रही हो आज उसी देश की नदियां प्रदूषण का जहर पी रही हैं और तड़फ-तड़फकर दम तोड़ रही हैं। जंगल जहां कभी पक्षियों का संगीत गूंजा करता था। आज वहां सन्नाटा पसरा हुआ है। और जंगलों के साथ यह सब बदसलूकी भौतिकता के मोहपाश में जकड़ा आदमी कर रहा है जिसपर जंगलों ने हमेशा दुआओँ की बारिश की है।
यह दर्द ही नीरज नैथानी की कविताओं का प्राण तत्व है। महर्षि अरविंद कहते हैं कि प्रकृति सदा संतुलन और तारतम्य की खोज में रहती है। जीवन और पदार्थ भी उसी खोज में हैं जिस तरह मन अपनी अनुभूतियों को सुव्यवस्थित देखना चाहता है। पर्यावरण
प्रकृति का मन है। यह पर्यावरण
ही मन को संचालित करता है। अगर पर्यावरण का मन अशांत है तो हमारा मन कैसे शांत हो सकता है। हमारी अनुभूतियां कैसे इस प्रभाव से अछूती रह सकती हैं।
जगदीश परमार
Post a Comment