Search This Blog

Tuesday, February 1, 2011

मेरा तो कुछ नहीं गीत में


मेरा तो कुछ नहीं गीत में
मेरा तो कुछ नहीं गीत में
जो भी है सभी तुम्हारा है
जैसी अनुभूति हुई वैसी
मन कागज़ उसे उतारा है
लिखता कौन लिखाता को है
कलम नहीं जब लिख पाती है
नाद विचरता नाभि सिंधु
जब शब्द शक्ति यह लिखवाती है
जन्मा नहीं अजन्मा लेकिन
भीतर-भीतर उजियारा है
मेरा तो कुछ नहीं गीत में
जो भी है सभी तुम्हारा है।
डॉक्टर जगदीश परमार
Post a Comment