Search This Blog

Thursday, April 28, 2011

अच्छे शेर हैं

जबरदस्त शेर हैं
लोकमंगल को रोज लगभग बारह हजार लोग पढ़ रहे हैं।
आदरणीय गौड़ साहब,
आपके शेर जबरदस्ती के शेर नहीं हैं बल्कि जबरदस्त शेर हैं। आप ने बढ़िया शेर कहे हैं। बहुत ही सूक्ष्म संकेतों में बड़ी गहरी बातें हैं। बधाई..
सुरेश नीरव

Post a Comment