There was an error in this gadget

Search This Blog

Thursday, April 21, 2011

लोकमंगल को रोज लगभग तेरह हजार लोग पढ़ रहे हैं


***********************************************
लोकमंगल को रोज लगभग तेरह हजार लोग पढ़ रहे हैं.....
 रचनाकारों को कोशिश करनी चाहिए कि वे नियमित लिखें। और अपनी बात व्यापक वर्ग तक पहुंचाएं
                 जयलोकमंगल...
पंडित सुरेश नीरव
* श्री बी.एल.गौड़ की नागरिक रचना अच्छी लगी।* श्री भगवानसिंह हंस का संस्मरण अच्छा लगा। * श्री प्रकाश प्रलय की क्षणिकाएं बढ़िया लगी।
***************************************************
Post a Comment